Structure of Karma

Structure of Karma

There are three layers of Karma, i.e. Mind, Speech & Body.

Karma appears first in the Mind, so Mind is the ground for plantation of Karma. Secondly, it comes in the Speech, so Speech is plants of Karma Farming. Thirdly, it manifests into the Body, and Body is the crop form of Karma.

Karma is being planted by everyone at the first level always, continuously. It’s just like farming of seeds of paddy, wheat etc… Some of them got sprouted and grown as plants, some got wasted in the ground, so the Karma at first level, at Mind.

When seeds come into the plants form, the farmer begins to take care seriously and getting them fertilized by compost, water etc…, so the Karma at second level, at Speech.

And when plants become crops, farmer goes to cut and bring them in to his home. So, the Karma at third level, at Body.

Intuitive Param
Orator Writer Mentor
Mobile: +91-8076036328 WhatsApp: +91-9891927877
Email: intuitiveparam@gmail.com
https://www.facebook.com/asc.advancedlearning
Advertisements

The right working style

The right working style

There are two working styles –
1. working on others.
2. working on self.

One kind of people are wasting their present, and making a dull future for themselves. Other ones are utilizing their present, and making a bright future for themselves.

First style (working on others):

  1. Copy: People copy other’s features, strategies, standards etc.
  2. Reaction: Get reacted from other’s behaviors, karmas and try to get revenge.
  3. Suffering: Get suffered by past incidents as those occurred by other’s stupidity.

 

Second style (working on self):

  1. Originality: People don’t copy other’s features, strategies, standards etc as they know everyone has a different situation so their strategies are different. They accept their situation and start to improve as their own.
  2. Peace: They don’t get reacted from other’s behaviors or karmas as they know everyone has a unique account in which their all karmas are being recorded, so they get peace instead reaction and work as their nature.
  3. Happiness: They don’t get suffered by any past incident as they live in the present always and practice mindfulness that keeps them happy and blissful.

 

Wishing a happy, peaceful and blissful life.

Intuitive Param
Orator Writer Mentor

कामुकता : एक गंभीर समस्या

Intuition.edited-ii

कामुकता : एक गंभीर समस्या

आज के युग में, जहाँ काम का खुलेआम प्रदर्शन हो रहा है, पूरा मानव वर्ग इस समस्या से ग्रस्त है. विशेषकर साधक, जो अध्यात्म का अभ्यास कर रहे हैं, उनके लिए तो यह एक गंभीर समस्या है. उनके मार्ग का तो यह एक सबसे बड़ा रोड़ा है जो उन्हें आगे बढ़ने से रोकता है. इस विषय पर ध्यान में मुझे जो intuition मिला, वह इस प्रकार है :-

किसी भी समस्या से अगर निकलना हो तो सबसे पहले उस समस्या को समझने की कोशिश करो. सही समझ ही सही निदान है. बिना समझे अगर आप किसी समस्या से निकलना चाहते हो तो कितना भी उपाय कर लो, नहीं निकल पाओगे, अपितु और बुरी तरह से उसमें उलझोगे. तो आएँ, सबसे पहले इसे समझते हैं.

कामुकता से पहले काम को समझना ज़रूरी है. काम क्या है? काम शरीर की एक आवश्यक आवश्यकता है, जैसे रोटी-पानी. जैसे शरीर की भूख-प्यास रोटी-पानी से मिटती है, उसी तरह काम से शरीर की कुछ आवश्यक आवश्यकताओं की पूर्ती होती है. रोटी-पानी से शरीर में रक्त बनता है और रक्त से वीर्य. वीर्य उर्जा का एक स्थूल रूप है, अतः यह उर्जावान रहता है. उर्जा का स्वाभाव है, प्रवाहित होना, अतः इसे रास्ता चाहिए. काम एक नैसर्गिक व्यवस्था है प्रकृति की, इसके द्वारा यह वीर्य गतिमान हो जाता है, और विपरीत लिंगी के साथ मिलकर एक नये शरीर का निर्माण करता है. यह उर्जा का एक आदान-प्रदान है, जिससे दोनों शरीर अंदर से परिष्कृत होकर निखर जाता है. काम जब तक यह आवश्यकता पूरी करता है तब तक यह बुरा नहीं है, और इसकी अनुमति हमारे शास्त्र-पुराण, ऋषि-मुनियों ने विवाह के रूप में दी है.

काम एक आकर्षण है, विपरीत लिंगी के प्रति, परंतु जब तक यह शरीर में है, यह बुरा नहीं है, क्योंकि यह प्रकृति का काम कर रहा है, परंतु जब यह शरीर से मन में आ जाता है तब यह भूख-प्यास बन जाता है और जैसे मृत्यु-पर्यंत शरीर को रोटी-पानी की ज़रूरत पड़ती है, उसी तरह इसकी प्यास मृत्यु-पर्यंत बनी रहती है. मन की यह अवस्था कामुकता कहलाती है. मन एक माध्यम है, जिससे उर्जा प्रवाहित होती है. अगर यह प्रवाह शरीर की तरफ है तो यह कामुकता है, और अगर यह आत्मा की तरफ है तो आध्यात्मिकता है.

अब प्रश्न है की इस प्रवाह को कैसे मोड़ा जाय? आज के युग में शरीर का इतना प्रदर्शन है कि मन अनायास शरीर की तरफ बहने लगता है, और यह प्रवाह इतना प्रबल है कि इसे मोड़ना हाथी को वश में करने जैसा है. कुछ लोग योग करते हैं, ध्यान करते हैं, तरह-तरह की विधियों का प्रयोग करते हैं, परंतु इसे मोड़ने में सफल नहीं हो पाते हैं. जितना उपर की तरफ मोडते हैं, उतना नीचे की तरफ चले जाते हैं.

मेरा intuition कहता है, दो विरोधों के बीच में ठहर जाओ. गति को रोक दो. उपर जाने का प्रयास ही छोड़ दो. अपने आप को बीच में रखो, और ठहर जाओ. तुम अगर उपर जाने का प्रयास छोड़ दोगे तो नीचे जाने की नौबत ही नहीं आएगी, और तुम्हें वह मध्य-बिंदु मिल जाएगा, जो साधना का एकमात्र उद्देश्य है. उसी को कृष्ण ने स्थित-प्रज्ञ कहा है, उसे सभी महापुरुषों ने अलग-अलग ढंग से कहा है. मैं ऐसे साधक को Intuitive कहता हूँ.
… ऊँ

 

Energy, and it’s flow

Intuition.edited-ii

Energy is one,  but it’s flow is double sided. When the energy flows downward, it called Sex, and when it flows upward, it called Spirit (प्राण).

The Root Chakra is the base of Sex, and the Crown Chakra is of the Spirit. Mind is the channel of flowing the energy.

If sex is in the mind, it becomes sexual, and arises the sexuality, and its vise versa, when the spirit is in the mind, it becomes spiritual, and arises the spirituality.

The sexual mind can’t be able to go beyond the illusion, but the spiritual mind can be able to crash the screen of illusion, and get the Supreme Enlightenment.

The mind holds only one energy at a time, so we must check that what energy is being flowed in the channel.

An intuitive, a real yogi is able to flow the energy upward. So, be intuitive, and get the Supreme Enlightenment.

OM

The Special on Buddha Purnima

buddha

At the outset, I salute to the enlightened master, Gautam Buddha, who is the great source of inspiration for all the true seekers.

Gautam Buddha was taught by several Gurus but no one became able to satisfy him. He had spent appx. six years in searching a suitable master, who can be able to enlighten him. But he didn’t find so. Then he sat down under a tree, and heard his inner voice. And by following his intuition, he became enlightened in a very short period of the time.

Try to listen your intuition, and go ahead. Certainly, you will become an enlightened. The intution can be heard in the deep meditation, so the meditation is highly required to listen to this.

Take a pledge on this auspicious day, to make yourself intuitive, means, original, as you are really, and apply in the life. No doubt, the life must be transformed with the luminous light of enlightenment.

OM

 

आकर्षण : एक मौलिक दृष्टिकोण

Intuition.edited-iii
Intuition
हम जानते हैं कि चुंबक विपरीत ध्रुवों में ही आकर्षित होता है, और यही आकर्षण का मूलभूत सिद्धांत है.
इस सृष्टि के दो रूप हैं – स्थूल व सूक्ष्म, और हर वस्तु चाहे वह स्थूल हो या सूक्ष्म, उसके दो विपरीत हिस्से हैं. आप जिस किसी वस्तु को पकड़ेंगे, स्थूल या सूक्ष्म, उसके विपरीत हिस्से से आकर्षित होंगे.
शरीर स्थूल जगत का आधार है तो आत्मा सूक्ष्म जगत का. आपको जानकर आश्चर्य होगा कि कैसे समस्त प्राणी इस आकर्षण के प्रभाव में है.
अगर आप अपने आप को शरीर मानते हैं तो अपने विपरीत शरीर की तरफ आकर्षित होंगे. जीव मानते हैं तो ईश्वर खड़ा हो जाएगा आपके सामने, यही नहीं अगर आत्मा मानते हैं तो परमात्मा आ जाएगा आपके सामने, और आप आकर्षण के घेरे में ही रहेंगे.
निदान एक ही है, अपने आप को कुछ मानो ही मत. मानते ही ग़लती हो जाती है, फिर उसी का चक्र चलता रहता है.
कुछ भी न मानने से अहंकार विसर्जित हो जाता है और नित्य, शुद्ध, बुद्ध चेतना प्रकट होती है जो नैसर्गिक होती है। वह न सिर्फ आकर्षण से मुक्त होती है, बल्कि वह समस्त आकर्षण का केंद्र होती है।… ॐ

Middle Path : Physical & Subtle World

Intuition.edited-ii

There are two types of world – physical & subtle.

Body is the root of physical, and the Soul of subtle. Both have attraction power. Peoples are wandering in these two. Someone attract by Body, and someone by Soul.

How should one go beyond of these?

The science has discovered that the Earth has the gravity power, but this is also true that the Sky has the same. There is a limitation of the gravity power of the Earth, if the thing goes beyond of this, the Earth can’t attract that thing, and then, that thing would be attracted by the Sky.

But, there is a point between these, where the thing couldn’t attract by neither the Earth nor the Sky. Then, the thing would be stilled, and can observe these two.

Just like, there is a place between your Body and the Soul, and that is YOU. If you are attached with your Body or the Soul, this is just wandering in the attraction power.

Stay tuned in yourself, and keep away from the attraction power of both physical and subtle world. You will remain enlightened, and will be blessed forever.

OM